Riyadh: सऊदी से महिलाओ के लिए खुशखबरी सामने आ रही है। मिली जानकारी के अनुसार आप महिलाओं को हज या उमराह के दौरान मेहरम की जरूरत नहीं होगी। 45 वर्ष से अधिक उम्र महिलाओं के लिए पहले ही यह छूट दी जा चुकी है. बाकी महिलाओं के लिए आई ये खबर ऐतिहासिक है।

जहाँ आपको बता दे कि ‘एक महिला अब बिना मेहरम के उमराह करने के लिए मुल्क में आ सकती है।’ सऊदी में यह प्रथा थी कि महिलाएं बिना मेहरम के हज उमराह यात्रा पर नहीं आती थी। महिलाओं और बच्चों को बिना ‘मेहरम’ के यात्रा की अनुमति नहीं थी। मेहरम वो पुरुष साथी होता है जो पूरे हज के दौरान महिला या बच्चों के साथ रहता है।

Arab Women

चौबीसों घंटे पचास अंतरराष्ट्रीय भाषाओं में ख़ुत्बे! सऊदी अरब में हरमिन शरीफ़ प्रशासन के प्रमुख शेख डॉ. अब्दुल रहमान अल सुदीस ने कहा है कि “मस्जिद अल-हरम में 50 भाषाओं में अनुवाद की सुविधा दी जाएगी।”