Petrol pump scams india: जब हम अपनी गाड़ी, बाइक, या स्कूटर में तेल भराने पेट्रोल पंपों पर जाते हैं, तो हम अक्सर इस बात पर ज्यादा ध्यान नहीं देते हैं कि वहां तेल कैसे भरा जा रहा है. लेकिन आपको बता दें कि देश में मिलावटी तेल और तेल देते समय धोखाधड़ी की कई घटनाएं हो रही है. फरवरी 2022 में, भारतीय तेल और गैस मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने कहा था कि पेट्रोल पंप धोखाधड़ी के लिए दिल्ली तीसरे स्थान पर है. राजधानी में पेट्रोल पंपों पर कम तेल देना एक आम समस्या है. यहां हम आपको बता रहे हैं कि पेट्रोल पंप पर अक्सर किस तरह आपको चूना लगाया जाता है और आप इससे कैसे बच सकते हैं?

देश भर में पेट्रोल पंपों पर कम तेल देने (शॉर्ट-सेलिंग) वाले कई मामले सालाना दर्ज किए जाते हैं. जबकि अधिकांश मामले रिपोर्ट ही नहीं किए जाते. पेट्रोल पंप पर खुद को शॉर्ट-सेलिंग से बचाने के लिए, जब आप तेल भराने जाते हैं, तो सुनिश्चित करें कि डिलीवरी वाला व्यक्ति पिछले ग्राहक के वाहन में ईंधन भरने के बाद फिलिंग मशीन को 0 कर दे. इसके अलावा, अगर आप वाहन में भरे गए तेल से संतुष्ट नहीं है या आपको कोई शंका है तो पेट्रोल पंप पर 5-लीटर टेस्ट क्वांटिटी टेस्ट करा सकते हैं.

किया है 5-litre quantity test

सभी पेट्रोल पंपों में सरकार द्वारा प्रमाणित 5 लीटर का पैमाना होता है. अगर मशीन में 5 लीटर फीड करने पर पैमाना पूरी तरह से भर जाता है तो मान लीजिए कि पेट्रोल पंप कम ईंधन नहीं दे रहा है. अगर ऐसा नहीं होता है तब आपको जरूरी कदम उठा सकते हैं और धोखाधड़ी की रिपोर्ट कर सकते हैं.

इन टिप्स को अपनाएं

– तेल भराते समय हमेशा मीटर पर नजर डालें. देखें कि मीटर में जीरो दिखा रहा है या नहीं.

– तेल भरते समय पूरे वक्त मीटर पर नजर रखें.

– बेहतर होगा कि आप कार से बाहर निकलें और मीटर के साथ ही फ़्यूल नॉजिल पर भी नजर रखें.