Mumbai lawyer Sagir Ahmed offered to pay 25 lakhs for the workers’ visit

सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दाखिल हुई है जिसमें लाकडाउन के दौरान प्रवासी मजदूरों की दयनीय स्थिति का जिक्र करते हुए मुंबई में फंसे प्रवासी मजदूरों को सुरक्षित घर पहुंचाए जाने की मांग की गई है।

मुंबई में रहने वाले उत्तर प्रदेश के मूल निवासी वकील सगीर अहमद खान ने जनहित याचिका दाखिल कर विशेष तौर पर उत्तर प्रदेश के बस्ती और संत कबीर नगर जिले में रहने वाले प्रवासी मजदूरों को मुंबई से सुरक्षित उनके घर पहुंचाने की गुहार लगाई है।

मजदूरों की दिक्कतों के प्रति सहृदयता और अपना अच्छा इरादा जाहिर करते हुए खान ने उत्तर प्रदेश के बस्ती और संत कबीर नगर के रहने वाले प्रवासी मजदूरों के यात्रा किराए के रूप में 25 लाख रुपये देने की भी पेशकश की है।

खान ने याचिका में कहा है कि उन्होंने लॉकडाउन के दौरान मुंबई में परेशान होते प्रवासी मजदूरों को सुरक्षित उनके घर पहुंचाने के लिए सरकार से संपर्क करने की कोशिश की थी। उत्तर प्रदेश में संबंधित नोडल अधिकारी से इस सिलसिले में कई बार फोन पर संपर्क करने की कोशिश की लेकिन फोन हमेशा व्यस्त था और ईमेल का उन्हें जवाब नहीं मिला। इसलिए उन्हें कोर्ट में याचिका दाखिल करनी पड़ी।

loading...