मुस्लिम देश इंडोनेशिया में एक शख्स को महिला से अवै’ध संबंध के दौरान पकड़े जाने पर उसे इस्लाम धर्म के मुताबिक सरेआम कोड़े मारने की सजा दी गई है।

कोड़े मारने की सजा दी जाती है
न्यूज़ ट्रैक पर छपी खबर के अनुसार, इंडोनेशिया में नाज़ायज़ संबंधों को लेकर कानून बेहद सख्त हैं। यदि कोई अवैध या समलैंगिक संबंध बनाता पाया जाता है तो उसे सार्वजनिक रूप से बेंतों से पिटाई या कोड़े मारने की सजा दी जाती है।

विवाहिता से अवैध संबंध बनाने के दौरान पकड़ा गया
हाल ही में वहां एक ऐसा व्यक्ति एक विवाहित महिला से संबंध बनाता पकड़ा गया, जिसने खुद ही नाज़ायज़ संबंधों के खिलाफ सख्त कानून बनाने में अहम भूमिका निभाई थी।

उलेमा काउंसिल का सदस्य था
मुखलिस बिन मुहम्मद नाम का यह व्यक्ति एशेह उलेमा काउंसिल (एमपीयू) का सदस्य था। उसे सार्वजनिक रूप से 28 बेंत मारने की सजा सुनाई गई, वहीं उसकी साथी महिला को भी 23 बेंत मारने की सजा दी गई।

अवैध संबंध रखने पर सख्त सजा
एशेह इंडोनेशिया का ऐसा क्षेत्र है, जहां अवैध संबंध बनाने पर बहुत सख्त सजा दी जाती है। यहां के मुखलिस समुदाय के लोग इस मामले में काफी कट्टर माने जाते हैं। यहां पूरी तरह इस्लामिक कानून शरिया का पालन किया जाता है।

सरेआम दी जाती है सजा
यहां समलैंगिकता और जुआ खेलने पर भी बेंतों से पिटाई की सजा दी जाती है, जो इन जुर्म में पकड़े जाते हैं, उन्हें सरेआम लोगों की भीड़ के सामने कोड़े मारे जाते हैं।

कोई भी हो माफ़ी नहीं दी जाती
एशेह बेसार जिले के डिप्टी मेयर सुसैनी वहाब ने बताया है कि यहां खुदा का कानून चलता है। यदि कोई भी गलत काम करता पाया गया तो उसे सार्वजनिक तौर पर कोड़े मारे जाएंगे, भले ही वह उलेमा काउंसिल (एमपीयू) का सदस्य ही क्यों न हो।

अधिकारीयों ने रंगे हाथ पकड़ा
जिस व्यक्ति और महिला को बेंतों से पीटने की सजा दी गई, उन्हें एक टूरिस्ट बीच के पास कार में नाज़ायज़ संबंध बनाते हुए अधिकारियों ने पकड़ा था। उस व्यक्ति को उलेमा काउंसिल से बर्खास्त कर दिया गया है।

loading...