महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन घोषित होने के कुछ घंटे बाद शिवसेना (Shiv Sena) प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने कांग्रेस और शरद पवार की राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के साथ गठबंधन के माध्यम से महाराष्ट्र में स्थिर सरकार की उम्मीद जताई.

महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन घोषित होने के कुछ घंटे बाद शिवसेना (Shiv Sena) प्रमुख उद्धव ठाकरे (Uddhav Thackeray) ने कांग्रेस और शरद पवार की राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के साथ गठबंधन के माध्यम से महाराष्ट्र में स्थिर सरकार की उम्मीद जताई. लंबे समय तक प्रतिद्वंद्वी कांग्रेस के साथ वैचारिक मतभेदों को दूर करते हुए, उन्होंने कहा कि अगर भाजपा और महबूबा मुफ्ती की पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी (PDP) को एक साथ काम करने का तरीका मिल सकता है, तो यह वर्तमान स्थिति में भी संभव है. उद्धव ने कहा कि शिवसेना, कांग्रेस और राकांपा मिलकर सरकार बनाने का फॉर्मूला खोज लेंगे.

महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन, राज्यपाल ने की अनुशंसा: सरकार गठन में…

उन्होंने कहा कि शिवसेना को भी कांग्रेस और NCP की तरह न्यूनतम साझा कार्यक्रम पर स्पष्टीकरण की आवश्यकता है. संवाददाता सम्मलेन में उद्धव ने कहा कि ‘शिवसेना ने कांग्रेस और राकांपा से पहली बार 11 नवंबर को संपर्क किया था. इससे भाजपा का यह आरोप गलत साबित होता है कि शिवसेना चुनाव परिणाम के बाद से ही कांग्रेस और राकांपा के संपर्क में थी.’ सोमवार को शिवसेना राज्यपाल के सामने सरकार बनाने के लिए जरूरी राकांपा और कांग्रेस का समर्थन पत्र प्रस्तुत नहीं कर पाई थी.

महाराष्ट्र: NCP को समर्थन देने पर असदुद्दीन ओवैसी का बड़ा बयान,…

उद्धव ठाकरे ने आरोप लगाया कि भाजपा को दी गई समयसीमा समाप्त होने से पहले ही शिवसेना को सरकार बनाने का न्योता दिया गया. कांग्रेस और राकांपा के साथ संभावित गठजोड़ के बारे में ठाकरे ने कहा कि वह इस पर विचार कर रहे हैं कि किस प्रकार विभिन्न विचारधाराओं वाले दलों ने भाजपा के साथ मिलकर सरकार बनाई थी. उद्धव ने इस दौरान राज्यपाल पर भी तंज कसा. उन्होंने कहा कि हमने 3 दिन का समय मांगा था, राज्यपाल ने 6 महीने का समय दे दिया है. 

महाराष्ट्र में सरकार गठन के फार्मूले पर कुमार विश्वास ने मीडिया…

इससे पहले कांग्रेस-NCP की बैठक के बाद कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने कहा कि तीनों दलों के बीच साझा न्यूनतम कार्यक्रम तय हुए बगैर कोई अंतिम फैसला नहीं लिया जा सकता. उन्होंने राष्ट्रपति शासन लगाए जाने की आलोचना करते हुए कहा था कि कांग्रेस को सरकार बनाने का मौका नहीं दिया गया. कांग्रेस नेताओं के साथ NCP अध्यक्ष शरद पवार ने कहा कि दोनों दल विचार विमर्श कर एक आम सहमति बनाने का प्रयास करेंगे कि यदि शिवसेना को समर्थन देना है तो नीतियां और कार्यक्रमों की रूपरेखा कैसी होनी चाहिए?

loading...