आज के समय मे लोग ज्यादा से ज्यादा पढ़ाई पढ़कर अच्छी से अच्छी नोकरी करना चाहते है । अच्छा पद मिले उसके लिए दिन रात मेहनत करते है । उन्हें सरकारी नोकरी मिले इसलिए वो दिन रात पढ़ाई में लड़े रहते कि उन्हें कामयाबी मिले। आज भी बहुत से बच्चे दिल्ली से लेकर कोटा तक सरकारी जॉब के लिए तैयारी करते है। बहुत से लोग प्री और मेन परीक्षा तो पास कर लेते है लेकिन बहुत से लोग इंटरव्यू में ही रह जाते है।

उसमे अधिकारी कुछ अलग ही तरीके से सवाल करते है। जिससे कुछ बच्चों का दिमाग नहीं चल पाता है ,ये प्रैक्टिस की वजह से भी हो सकता है । आज ऐसे ही हम बात करने जा रहे है। कुछ समय पहले ही यूपीएससी परीक्षा में 350 वीं रेंक लाने वाली साक्षी गर्ग के इंटरव्यू की। साक्षी जब अपना इंटरव्यू देने कई जब उन्हों से अधिकारियो ने हिन्दू मुस्लिम को लेकर एक सवाल किया।

जिसका की साक्षी ने बहुत अच्छे अंदाज में जवाब भी दिया। सवाल किया कि ‘ मान लो आप यूपी के किसी जिले की डिस्ट्रिक्ट मजिस्ट्रेट बन जाती है। अब एक दिन आपके पास हिन्दू समाज आता है और बोलता है कि हमें रामनवमी के दिन जुलूस निकालना है। फिर अगले दिन आपके पास मुस्लिम समाज आता है और बोलता है कि उसी दिन, उसी समय, उसी रुट पर ताजिए निकालना है। आप से परमिशन मांगता है। ऐसे में आप क्या करोगी?’

इसका जवाब देते हुए उन्होंने कहा कि मैं दोनो दलों की भा’वनाओ का सम्मान करती हूं। मैं इस स्थिति से निपटने हेतु उनके लीडर से बात करूंगी। पहले में उन्हें राम नवमी और ताजिए के लिए अलग अलग रुट चुनने के लिए कहूंगी। यदि वो नही मानते है तो उनको समय बदलने के लिए कहूंगी। इस तरह से दोनों की भा’वनाओ को ठे’स नही पहुँचेगी।उसके बाद अधिकारियों ने कहा कि यदि दोनों एक ही समय में जुलूस निकालने का कहते है तो आप क्या करोगी।

गर्ग ने कहा कि राज्य की डिस्ट्रिक्ट मसिस्ट्रेट होने पर मेरे पास यह अधिकार है कि मैं दोनो से मना भी कर सकती हूं। उन्होंने कहा कि मैं दोनो को अलग अलग समय की इजाजत दूंगी। नही तो परमिशन नही दूंगी।अधिकारी ने इसके बाद सवाल किया कि उन दोनों दलों में से किसी एक का भाई विधायक निकला तो आप क्या करोगी। उन्होंने कहा कि मेरा निर्णय सेम ही रहेगा। उसके बाद अधिकारी ने कहा कि चलो विधायक मान लेता है।

यदि आप के पास आयुक्त मंडल में जो आप के दस साल सीनियर कमिश्नर है वो आप से बोलते है कि एक दल को परमिशन दे दो और दूसरे को मत दो तब आप क्या करोगे। उन्होने कहा कि में उनसे विनती करूंगी ।क्योंकि वो उम्र में बड़े है। उन्होंने कहा कि मैं उनसे कहूंगी की आप मुझे लिखित में लिखकर दो। इससे मेरी कोई जिम्मेदारी नही बनती है। जिले में दंगा हो , माहौल खराब हो मेरी कोई जिम्मेदारी नही बनती है।

साक्षी वर्तमान में इंडियन रेवेन्यू सर्विस में असिस्टेंट कमिशनर है।आपको बता दे, सोशल मीडिया पर साक्षी का एक वीडियो इंटरव्यू होने के बाद ये पोस्ट हमारी टीम ने लिखा है । हमारा उद्देश्य है कि देश मे शांति कायम हो और सभी धर्म के लोग एक दूसरे का सम्मान करें । साक्षी के इस सवाल की सभी तारीफ कर रहे है । उनका ये इंटरव्यू वायरल हो गया था ।

loading...