लॉक’डाउन के चलते तक़रीबन 2 महीने से बंद विमानन सेवाएं भी अब शुरू होने वाली हैं. देश में Domestic Airlines सेवा 25 मई से शुरू होने जा रही है. इस दौरान कई तरह के नियम और शर्तें लागू होंगी, जिनका पालन करना अनिवार्य होगा. केंद्रीय नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप पुरी ने इसको लेकर आज गुरुवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस की.

नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप पुरी ने कहा कि विदेश में फंसे भारतीय लोगों के लिए 5 मई को वंदे भारत मिशन की शुरुआत की गई. अब तक 20 हजार लोगों को स्वदेश लाया गया है. हालाँकि कुछ देश लोगों को वापस नहीं आने दे रहे हैं. अभी तक यह मिशन काफी अच्छा चल रहा है. इस मिशन से जुड़े सभी को उन्होंने धन्यवाद दिया.

उन्होंने बताया कि 25 मई से घरेलू उड़ानों को इजाजत दे दी गई है. मेट्रो से मेट्रो सिटी के लिए एक तिहाई उड़ानों को इजाजत मिली है. एक तिहाई उड़ानों को विमानन कंपनियां चला सकती हैं. मेट्रो टू मेट्रो शहरों में कुछ नियम होंगे, मेट्रो टू नॉन मेट्रो शहरे के लिए अलग नियम होंगे. मेट्रो शहरों में दिल्ली, मुंबई, कोलकाता, चेन्नई जैसे शहर शामिल होंगे. केंद्रीय मंत्री ने बताया कि शुरुआती तौर पर एयरपोर्ट का एक तिहाई हिस्सा ही शुरू होगा.

किसी भी फ्लाइट में खाना नहीं दिया जाएगा. फ्लाइट रूट्स 7 सेक्शन में बांटे गए हैं- सेक्शन 1 में फ्लाइट का समय 40 मिनट से कम है. सेक्शन 2 में 40 मिनट से ज्यादा और 60 मिनट तक है. सेक्शन 3 में 60-90 मिनट तक है. सेक्शन 4 में 90 से 120 मिनट तक है. सेक्शन 5 में 2 घंटे से 2.30 घंटे तक है. सेक्शन 6 में ढाई से तीन घंटे तक है. सेक्शन 7 में 3 घंटे से साढ़े तीन घंटे होगा.

केंद्रीय मंत्री हरदीप पुरी ने बताया कि विमान यात्रा सबके लिए हो, इसके लिए किराया भी उचित रखा गया है. उड़ानों के लिए हमने वास्तविक किराया फिक्स किया है. सरकार की तरफ से अगस्त तक टिकट के कुछ दाम तय कर दिए गए हैं. उदाहरण के तौर पर दिल्ली से मुंबई फ्लाइट के लिए कम से कम 3500 रुपये-अधिकतम 10 हजार रुपये तय किया गया है.

इसी के तहत कंपनियों को टिकट के दाम तय करने होंगे. सभी कंपनियों को करीब चालीस फीसदी सीटें अधिकतम-न्यूनतम दाम के बीच के दाम पर देनी होंगी. दाम का ये सिस्टम अगस्त तक जारी रहेगा. उड़ान के दौरान बीच की सीट खाली नहीं रखी जाएगी. हर उड़ान के बाद फ्लाइट की डिसइन्फेक्ट किया जाता है. यात्रियों और क्रू के लिए हर सावधानी बरती जाती है. अगर मिडिल सीट खाली छोड़ दें तो इसका भार यात्रियों पर जाएगा.

केंद्रीय मंत्री ने बताया कि 25 मार्च के बाद से उड़ान के तहत 5 लाख किमी. तक का सफर तय किया गया, इस दौरान देश के अलग-अलग हिस्सों में कोरोना वायरस से जुड़ी सामग्री को राज्यों तक पहुंचाया गया. विदेश से भी मेडिकल सामान देश में लाया गया है. बता दें कि बुधवार को ही केंद्रीय मंत्री द्वारा देश में घरेलू उड़ानों को नियमवार खोलने का ऐलान किया गया था. देश के सभी एयरपोर्ट को 25 मई से विमानों के लिए तैयार रहने को कहा गया है. मंत्रालय के द्वारा इसके लिए नए दिशा निर्देश भी जारी किए गए हैं.

सरकार के द्वारा जारी गाइडलाइन्स के मुताबिक यात्रियों को फ्लाइट के वक्त से दो घंटे पहले एयरपोर्ट पहुंचना होगा. हर किसी को आरोग्य सेतु ऐप रखना जरूरी होगा. जिनकी फ्लाइट को चार घंटे हैं, उन्हें ही एयरपोर्ट पर एंट्री मिलेगी. यात्रियों को मास्क, ग्लव्स पहनना जरूरी होगा. साथ ही सोशल डिस्टेंसिंग का पालन भी जरूरी है.  इसके अलावा एयरपोर्ट, विमान के कर्मचारियों को पीपीई किट पहनना होगा. फ्लाइट के अंदर भी कई तरह की सतर्कता बरती जाएगी.

loading...