तबलीगी जमात पर बबीता फोगाट का तंज पड़ा भारी, ट्विटर ने किया अकाउंट सस्पेंड

नई दिल्ली। देश भर में तेजी से पैर पसार रहे कोरोना वायरस महामारी के बीच हाल ही में दिल्ली के निजामुद्दीन में तबलीगी जमात की घटना जबरदस्त सुर्खियों में रही, जिसमें मार्च के महीने में करीब 8 हजार लोग मरकज में पहुंचे थे। यहां पर करीब 11 लोग विदेशों से भी शामिल होने आये थे। इस मरकज में मौजूद लोगों की बड़ी संख्या कोरोना से संक्रमित पाई गई है और पुलिस को सूचना मिलने पर बड़ी संख्या में लोग देश के अलग-अलग हिस्सों में भाग गए।

देश में अब तक सामने आए 2902 कोरोना पॉजिटिव केसों में लगभग 30 फीसदी लोग तबलीगी जमात से जुड़े हैं। जमात से जुड़े 1023 लोग अब तक जांच में पॉजिटिव पाए गए हैं। इसी मुद्दे को लेकर कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत के लिये स्वर्ण पदक जीतने वाली बबीता फोगाट ने एक ऐसा ट्वीट कर दिया जिसके चलते माइक्रो ब्लॉगिंग साइट ट्विटर ने उनका अकाउंट सस्पेंड कर दिया।

जहां एक ओर न्यूज चैनल से लेकर सोशल मीडिया तक इस घटना पर तीखी बहस छिड़ी हुई है वहीं इस मुद्दे पर बबीता फोगाट ने भी तीखे अंदाज में ट्वीट करते हुए लिखा,’तुम्हारे यहां पर यह वायरस चमगादड़ से फैला होगा लेकिन इंडिया में यह वायरस अनपढ़ सूअरों से फैल रहा है। ‘

उन्होंने अपने ट्वीट में #निजामुद्दीनइडियट भी लिखा था। बबीता फोगाट के इस ट्वीट को ज्यादा देर नहीं लगी ट्रेंड में आने में और सोशल मीडिया पर लोग इसे लेकर दो गुटों में बंट गये। एक गुट जहां बबीता के साथ खड़ा था तो दूसरे ने बबीता को याद दिलाने की कोशिश की यह आमिर खान ही थे जिन्होंने फिल्म बनाकर उन्हें मशहूर किया।

हालांकि इस बीच ट्विटर ने उनके इस पोस्ट को सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने वाला मानते हुए बबीता फोगाट के ट्विंटर अकाउंट को सस्पेंड कर दिया। साथ ही जब उन्होंने इस ट्वीट को अपने अकाउंट से डिलीट किया तभी जाकर उसने दोबारा इसे रिस्टोर किया।

ट्विटर पर वापस आने के साथ ही बबीता ने एक और ट्वीट किया और अपने फॉलोअर्स से पूछा कि मैंने इस ट्वीट में ऐसा क्या गलत लिखा था जो ट्विटर ने मेरा अकाउंट डिलीट कर दिया और जब उसे हटाया तभी अकाउंट को रिस्टोर किया।

आपको बता दें कि बबीता फोगाट ने रियो में आयोजित हुए ओलंपिक खेलों में भारत का प्रतिनिधित्व किया है और फिलहात भारतीय जनता पार्टी की सदस्य भी हैं।

loading...