देशभर में मुनाफ़ाख़ोरी का दौर चल रहा है। इसी बीच बाबा रामदेव की पतंजलि ने भी अपने हाथ साफ़ कर लिए तथा जीएसटी की दरें घटने के बावज़ूद भी अपने उत्पादों के दाम काम नहीं करे।

बाबा रामदेव की स्वदेशी ब्रांड कंपनी पतंजलि ने 2017 में जीएसटी की दर 28 से 18 फीसदी कम होने के बावज़ूद भी अपने उत्पादों के दाम नहीं घटाए थे बल्कि कुछ उत्पादों जैसे वॉशिंग पॉवडर के दाम बड़ा दिए, जिस कारण ग्राहकों को अधिक दाम पर सामान खरीदना पड़ा।

दंगाइयों ने स्वीकारा दिल्ली पुलिस हमारे साथ थी और हमसे कह रही थी मुसलमानों पर फेंको पत्थर

बाबा रामदेव द्वारा अपने उत्पादों को अधिक दाम में बेचने के कारण नेशनल एंटी प्रॉफिटिंग अथॉरिटी ने बाबा रामदेव की पतंजलि आयुर्वेद को दोषी ठहराते हुए 75.08 करोड़ रूपए का जुर्माना लगाया है।

12 मार्च को दिए आदेश में अथॉरिटी ने बाबा रामदेव की कंपनी पतंजलि से तुरंत इस जुर्माने को भरने के लिए कहा है। लेकिन अब देखना यह है क्या बाबा जुर्माना भरते है या फिर बाबा भी अंबानी-अडानी की तरह सरकार से जुगाड़ लगवा कर यह जुर्माना माफ़ करवा लेंगे।

loading...