तो शराब की दुकानों के बाद अब खुलेंगे सारे मंदिर, लॉकडाउन के बीच आई बड़ी खबर

प्रयागराज. अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और सीएम योगी आदित्यनाथ से देश भर के सभी मठ-मंदिरों को आम श्रद्धालुओं के लिए खोलने की अपील की है। परिषद ने पीएम मोदी और सीएम योगी को इस संबंध में चिट्ठी लिखकर कहा है कि पूजा के लिए मंदिरों को खोलना चाहिए। अखिल भारतीय अखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेन्द्र गिरी का कहना है कि सरकार ने शराब की दुकानें खोली हैं तो आखिर देवालयों के दरवाजे श्रद्धालुओं के लिए अब तक क्यों बंद रखे गए हैं। इससे पहले हरिद्वार के धर्माचार्यों और काशी विद्वत परिषद ने भी यह मांग उठाई थी।

लॉकडाउन में मंदिर बंद

दरअसल कोरोना महामारी से लड़ने के लिए सरकार की ओर से लॉकडाउन के दौरान मंदिरों और मठों को बंद करने का फैसला लिया गया था। सभी संत और महात्माओं ने इस फैसले का स्वागत भी किया। लेकिन अब महंत नरेन्द्र गिरी ने चिट्ठी लिखकर पीएम मोदी और सीएम योगी से अपील की है कि श्रद्धालुओं के लिए मठ-मंदिरों में प्रवेश की अनुमति दी जाए। पत्र में ये भी आश्वासन दिया गया है कि मंदिरों में लॉक डाउन के नियमों का पूरी तरह से पालन कराया जाएगा।

पीएम मोदी और सीएम योगी को लिखा पत्र

लिखे गए पत्र में महंत नरेन्द्र गिरी ने इस बात को लेकर पीएम और सीएम को आश्वासन दिया गया है कि अगर मंदिर खुलते हैं तो यहां साफ-सफाई का ध्यान दिया जाएगा। सेनेटाइजर दिए जाएंगे, मास्क लगवाया जाएगा और साबुन से हाथ धुलवाने के बाद ही मंदिरों में लोगों को प्रवेश दिया जाएगा। श्रद्धालुओं को मंदिर परिसर में दो मीटर की दूरी से ही दर्शन कराया जाएगा। महंत नरेन्द्र गिरी ने कहा कि कोरोना को लेकर पिछले डेढ़ माह से लॉकडाउन है और लगभग दो माह से मंदिरों के कपाट बंद हैं। ऐसे में मंदिरों में पुजारियों और अन्य कर्मचारियों को वेतन देने में भी बहुत कठिनाई आ रही है। जब राजस्व के लिए सरकार शराब की दुकानें खोले जाने की अनुमति दे सकती है, तो उसे दूसरी दुकानें और मंदिरों को भी खोले जाने की अनुमति दे देनी चाहिए। जिससे लोगों की रोजी-रोटी भी चलती रहे श्रद्धालु भी भगवान के दर्शन कर सकें।

loading...