Loading...

तुर्की की सशस्त्र सेना (टीएसके) और फ्री सीरियाई सेना (एफएसए) ने सीरिया के आफरीन टाउन के कई इलाकों में रविवार को तुर्की आर्मी ने पीकेके आतंकवादी समूह द्वारा इस्तेमाल किये जाने वाले अमेरिकी हथियार को ज़ब्त कर लिया है. अमेरिका द्वारा दिए जाने वाले हथियारों को बड़ी मात्रा में आतंकवादी इस्तेमाल कर रहे थे. ऑपरेशन ओलिव ब्रांच के तहत तुर्की आर्मी ने आफरीन पर कब्ज़ा करके आतंकवादियों से हथियार ज़ब्त किये है.

आफरीन क्षेत्र को तुर्की आर्मी ने पूरी तरह घेर लिया है. तुर्की आर्मी का कहना है कि ऑपरेशन तब तक जारी रहेगा जब तक आफरीन से पूरी तरह आतंकवादियों का सफाया नहीं हो जाता. तुर्की के उप प्रधान मंत्री बेकिर बूस्दग ने कहा कि अमेरिका ने पीपल्स प्रोटेक्शन यूनिट्स (वाईपीजी) को दिए गए हथियारों को वापस नहीं लिया, तुर्की ने बार-बार चिंता ज़ाहिर की है कि यह हथियार तुर्की की राष्ट्रीय सुरक्षा के लिए खतरा पैदा करते हैं. हालांकि, अफरीन में ऑपरेशन की सफलता की वजह से बड़ी अ में हथियारों को ज़ब्त किया गया है.

Loading...

ऑपरेशन का मकसद

तुर्की ने 20 जनवरी को शुरू किये ऑपरेशन ओलिव शाखा के तहत पीआईडी/पीकेके के आतंकवादियों को अफरीन से हटाया है. तुर्की जनरल स्टाफ के अनुसार, ऑपरेशन का उद्देश्य तुर्की की सीमाओं और क्षेत्र के साथ सुरक्षा और स्थिरता स्थापित करना है और साथ ही साथ आतंकवादी क्रूरता और उत्पीड़न से सीरिया की रक्षा करना है.

बयान में ये भी कहा गया कि तुर्की ने अंतरराष्ट्रीय कानून, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद के प्रस्तावों, संयुक्त राष्ट्र चार्टर के तहत अपने आत्मरक्षा अधिकार, और सीरिया के क्षेत्रीय अखंडता के प्रति सम्मान के आधार पर तुर्की के अधिकारों के ढांचे के तहत यह अभियान चलाया.

सेना ने यह भी कहा है कि इस अभियान में केवल आतंकवादी नष्ट किए जा रहे और किसी भी नागरिकों को नुकसान पहुंचाने से बचने के लिए “अत्यंत सावधानी” बरती जा रही है.

Loading...

LEAVE A REPLY