मध्य प्रदेश से गिरफ्तार हुए ISI एजेंटों के भारतीय जनता पार्टी के साथ रिश्तों पर हिन्दू धर्मगुरु शंकराचार्य स्वामी स्वरुपानंद जी महाराज ने कहा कि अपने लोग ही आस्तीन के सांप निकल जाते हैं. उनका मानना है कि देशद्रोहियों का कोई धर्म नहीं होता.

उन्होंने आगे कहा कि भाजपा इस बात के लिए गुनहगार नहीं है कि उससे जुड़े लोग इस रैकेट में शामिल हैं बल्कि इसलिए जिम्मेदार है क्योंकि भाजपा की नीतियों और सिद्धांतों में ऐसा कुछ भी नहीं है जिससे के लोग ऐसा काम करने से डरें. उन्होंने कहा कि सत्ता के साथ जुड़कर लोग ऐसा काम ज्यादा करते हैं.

शंकराचार्य ने संघ को भी निशाने पर लेते हुए कहा कि सभ्यता-संस्कृति और राष्ट्रवाद की दुहाई देने वाले आरएसएस में भी कभी भी ये नहीं बताया जाता है कि ईश्वर कौन हैं. शंकराचार्य ने साफ किया कि देशद्रोहियों का कोई धर्म नहीं होता,ना तो वो मुस्लमान होते हैं और ना ही हिन्दू.

वहीं नर्मदा सेवा यात्रा पर भी शंकराचार्य ने जमकर निशाना साधते हुए कहा कि नर्मदा की यात्रा हवाई जहाज में बैठकर नहीं की जाती है. नर्मदा बचाने के लिए यात्रा तो निकाली जा रही है। लेकिन रेत खनन पर लगाम लगाने में भाजपा नाकाम साबित हुई है. रेत खनन करने वाले कारोबारियों गरीब से करोड़पति हो गए,लेकिन कभी भी उन पर सरकार ने किसी भी तरह की कोई कार्रवाई नहीं की है.

वीडियो देखने के लिए यहाँ क्लिक करें

LEAVE A REPLY