महासभा के सदस्य बुधवार की सुबह से ही जेल रोड पर स्थित आर्य समाज मंदिर में एकत्रित हो गए थे और उन्होंने गोडसे को श्रद्धांजलि दी.

इंदौर: अखिल भारतीय हिंदू महासभा ने महात्मा गांधी के हत्यारे नाथूराम गोडसे की मौत के दिन को ‘बलिदान दिवस’ के रूप में मनाया. इसके लिए हिंदू महासभा के सदस्यों ने एक विशेष यज्ञ का आयोजन भी किया.

महासभा के सदस्य बुधवार की सुबह से ही जेल रोड पर स्थित आर्य समाज मंदिर में एकत्रित हो गए थे और उन्होंने गोडसे को श्रद्धांजलि दी. 15 नवंबर 1949 में गोडसे को अंबाला जेल में फांसी दी गई थी.

हिंदू महासभा के स्टेट जनरल सेक्रेटरी जितेन्द्र सिंह ठाकुर ने कहा कि नाथूराम गोडसे की मौत की स्मृति में उन्होंने इस दिन को ‘बलिदान दिवस’ के रूप में मनाने का फैसला किया है.

जितेन्द्र सिंह ठाकुर ने आरोप लगाते हुए कहा, “यह अल्पसंख्यक तुष्टीकरण की नीति को बेनकाब करने का एक प्रयास है जिसे गांधी ने भड़काया था”

नाथूराम गोडसे ने 30 जनवरी 1948 की शाम को दिल्ली के बिड़ला हाऊस (अब गांधी स्मृति) में महात्मा गांधी को गोली मार दी थी. उस समय गांधी जी शाम की प्रार्थना के लिए जा रहे थे, गोडसे ने उन पर नजदीक से तीन गोलियां चलाईं थी जिससे गांधी जी की मौत हो गई थी.

LEAVE A REPLY