दुबई: संयुक्त अरब अमीरात में प्रवासियों की बचत और निवेश की आदतों की जांच की गयी तो उस रिपोर्ट में बेहद चौकाने वाला नज़ारा सामने आया है. एक हालिया अध्ययन से पता चला है कि संयुक्त अरब अमीरात में रहने वाले 65 प्रतिशत प्रवासी UAE में अपना परमानेंट घर बनाकर यहाँ ताउम्र यहीं बसने की ख्वाइश रखते है.

फ्रेंड्स प्रोविडेंट इंटरनेशनल (एफपीआई) द्वारा किए गए अध्ययन में बचत, निवेश और संरक्षण समाधानों के लिए नवंबर 2017 में इस सर्वे किया था, जिसमें 565 प्रवासियों के जवाब देने के लिए शामिल थे. इन प्रवासियों में भारत, ब्रिटेन, दक्षिण अफ्रीका सहित फिलीपींस, ऑस्ट्रेलिया, साथ ही साथ अन्य पश्चिमी और एशियाई देशों के लोग शामिल थे.

गल्फ न्यूज़ के मुताबिक, एफपीआई में मुख्य विपणन अधिकारी,मिडिल ईस्ट और अफ्रीका के फिलिप सिर्निक ने रिपोर्ट के मुख्य आकर्षण के बारे में बताते हुए कहा कि, देश की जीवन शैली और आदतों को मद्देनज़र रखते हुए प्रवासी अपना भविष्य ताहीं व्यतीत करना चाहते है.

सर्वे के निष्कर्षों के मुताबिक, 44 प्रतिशत जवाब देने वाले लोगों ने संयुक्त अरब अमीरात आने के महत्वपूर्ण कारण के रूप में कमाई की क्षमता का हवाला दिया. जबकि 34 प्रतिशत ने कहा कि वह काम के अवसरों से काफी ज्यादा प्रेरित हैं. इस बीच, 20 प्रतिशत लोग संयुक्त अरब अमीरात में संपत्ति खरीदना चाहते हैं, जबकि 58 प्रतिशत माता-पिता अपने बच्चों को संयुक्त अरब अमीरात में विश्वविद्यालय में पढाई कराना चाहते है.

इस अध्ययन से पता चलता है कि प्रवासी संयुक्त अरब अमीरात को बेहद पसंद करते है और यहीं आपना परमानेंट घर खरीद कर रहना चाहते है. अध्ययन में कहा गया कि हम यह जानना चाहते थे कि आधे से ज्यादा लोग देश में स्थायी रूप से रहना चाहते हैं. यह संयुक्त अरब अमीरात की जीवनशैली और आतिथ्य के लिए एक आश्वासन है.

Leave your reply

Loading...

LEAVE A REPLY