रियाद: सऊदी सशस्त्र बलों की प्रदर्शनी (एएफईडी 2018) में अतिथि का सम्मानित देश तुर्की, सऊदी अरब के साथ मिलकर काम करने में गहरी रूचि दिखा रहा है ताकि सऊदी रक्षा क्षमताओं का निर्माण किया जा सके.

इस तरह के कदम से सऊदी को स्वदेशी रक्षा उद्योग विकसित करने में मदद मिलेगी, साथ ही विज़न 2030 के ढांचे के भीतर रक्षा प्लेटफार्मों, उत्पादों और तकनीक का निर्माण करना होगा.

अरब न्यूज़ के मुताबिक, शनिवार को तुर्की के राजदूत एर्दोगान कोक ने खुलासा बात का खुलासा करते हुए बताया कि, “24 शीर्ष तुर्की कंपनियां प्रदर्शनी में सैन्य हार्डवेयर और सेवा घटकों सहित बड़ी संख्या में उत्पादों को प्रदर्शित करेगी.” उन्होंने कहा कि तुर्की के रक्षा मंत्रालय और उद्योग के नेताओं के अधिकारियों के एक उच्च रैंकिंग प्रतिनिधिमंडल तुर्की रक्षा उद्योग के प्रमुख डॉ. इस्माइल देमीर के नेतृत्व में, एएफईडी 2018 के उद्घाटन समारोह में भाग लेंगे.

कोक ने बताया कि रक्षा और सैन्य सहयोग के क्षेत्रों में तुर्की और सऊदी अरब के बीच रणनीतिक संबंधों में बढ़ोतरी हुई है. उन्होंने कहा कि हफ्ते भर चले AFED प्रदर्शनी ने दोनों देशों के बीच सैन्य-तकनीकी सहयोग को गहरा करने के लिए काम करेगी. इसका उद्देश विज़न 2020 में एक सैन्य औद्योगिक आधार विकसित करना एक महत्वाकांक्षी और प्राप्य लक्ष्य है.

दूत ने आगे कहा, “देमिर एएफईडी पर उच्च रैंकिंग वाले सऊदी नेताओं और वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बातचीत करेगें.” उन्होंने यह भी कहा कि “सऊदी-तुर्की समन्वय परिषद की अगली बैठक, जो दोनों देशों के बीच द्विपक्षीय संबंधों के सभी पहलुओं पर विचार-विमर्श करेगी वह जल्द ही रियाद में आयोजित की जाएगी.”

इस अवसर पर जारी एक रिपोर्ट में कहा गया कि, तुर्की जिसकी नाटो (NATO) में दूसरी सबसे बड़ी सेना है. इसने हेलीकॉप्टर, मानव रहित हवाई वाहनों और सेंसर पर ध्यान देने के साथ उन्नत संचार और सूचना प्रणाली तैयार की हैं.

Leave your reply

Loading...

LEAVE A REPLY