एक वक्त था जब भारत में प्रथा और परंपराओं के नाम पर न जानें कितनी ही कुरितियों को बढ़ावा दिया जाता था। हालांकि, जैसे- जैसे लोगों में जागरुकता बढ़ी उन्हे अच्छी और बुरी चीज़े दिखने लगी, जिसके नतीजतन धीरे- धीरे देश से कुप्रथाओं का साया छटने लगा। लेकिन आज एक बार फिर ऐसा लग रहा है जैसे आज भी हमारा समाज पर्दा प्रथा व सती प्रथा जैसी और भी कई कुरीतियों के तले खुलकर सांस नहीं ले पा रहा है। जिसकी वजह है आज भी कुछ जगहों पर प्रथा के नाम पर होने वाले ढ़कोसले के कारण किसी औरत की आबरु को ठेस पहुंचाने की प्रथा।

जी हां, हम यहां बात कर रहे हैं मध्य प्रदेश के शिवपुरी इलाके में सालों से चली आ रही ‘धड़ीचा प्रथा’ की। जिसमें हर वर्ष यहां के घरवालें अपनी बेटियों को 1 साल के लीए बेच दिया करते हैं। बता दें कि इस प्रथा के अंतर्गत पुरुष अपनी मर्जी से मन-पसंद लड़की को 1 साल के लिए अपने साथ ले जाते हैं।

आपको ये जानकर हैरानी होगी कि लड़की के घरवाले अपनी बेटी को देने के बदले, सामने वालों से 1 साल की पूरी रकम तक वसूलते हैं। इस सौदे को बकायदा एक रजिस्टर में नोट किया जाता है। यदि लड़का चाहे तो वह ज़्यादा कीमत देकर लड़की को 1 साल से अधिक समय के लिए भी ले जा सकता है।

बशर्ते उस एक साल के दौरान लड़की को उस आदमी की पत्नी बनकर रहना पड़ता है। इस दौरान यदि वे शादी करने का फैसला कर लेते हैं तो समय रहते उनकी शादी तय कर दी जाती है। वैसे सोचने वाली बात तो ये हैं कि आजतक किसी भी शख्य या परिवार ने इस कुप्रथा के खिलाफ ना कोई शिकायत दर्ज कराई है और ना ही किसी ने इसके खिलाफ कोई आवाज़ उठाई है।

LEAVE A REPLY