सूरत (गुजरात). अपने दामाद के एक महिला के साथ अवैध संबंधों के शक में भाजपा पार्षद प्रवीण कहार ने साथियों के साथ मिलकर दबंगई दिखाई। रांदेर और अठवा एरिया में दामाद और महिला को न्यूड कर सरेआम पिटाई की। दोनों को गंभीर चोटें आई हैं। मामला तीन दिन पुराना है, जो शनिवार को सामने आया। दरअसल, भाजपा पार्षद के दबाव में दो थानों की पुलिस मामला दर्ज करने में तीन दिन तक आनाकानी करती रही। आखिर में कमिश्नर के दखल के बाद रांदेर पुलिस ने शनिवार देर शाम मामला दर्ज किया।

महिला के साथ दामाद को पकड़ा था फ्लैट में

– पुलिस के मुताबिक मामला गुरुवार सुबह का है। पहले से रेकी करवा रहे पार्षद कहार ने अपने दामाद जयेश और उसकी गर्लफ्रेंड को रांदेर के एक फ्लैट में पकड़ लिया।

– बीजेपी लीडर ने अपने साथियों के साथ मिलकर लकड़ी के डंडे, पाइप, स्क्रू ड्राइवर आदि हथियारों से दोनों की पिटाई करते हुए न्यूड कर दिया।

– फिर यहां से दोनों को कार में डालकर विवेकानंद ब्रिज के छोर पर लाए और न्यूड हालत में दोनों को फिर से पीटा। महिला के चेहरे, हाथों, सीने और नाजुक अंगों पर चोटें आई हैं।

– इस दौरान भीड़ देखती रही, लेकिन किसी ने बीच बचाव नहीं किया। हालांकि इस बीच किसी ने अठवा थाने को सूचना दे दी। पुलिस आई, लेकिन मामला रांदेर पुलिस का बताकर चली गई।

– इसके बाद पीड़िता रांदेर थाने पहुंची तो उसकी फरियाद दर्ज करने की बजाय उसी पर अवैध शराब बेचने का केस दर्ज कर दिया गया।

– शनिवार को महिला ने पुलिस कमिश्नर से गुहार लगाई तब जाकर रांदेर पुलिस ने मामला दर्ज किया।

– डीसीपी जोन 4 की निगरानी में पार्षद सहित एक दर्जन लोगों के खिलाफ छेड़छाड़, दंगा आदि धाराओं में केस दर्ज कर लिया गया है।

– कमिश्नर ने मामले की जांच पड़ोस के जहांगीरपुरा थाने के इंस्पेक्टर को सौंपी है। दामाद ने अभी तक केस दर्ज नहीं करवाया है।

दामाद की जासूसी करवा रहे थे भाजपा पार्षद

– भाजपा पार्षद कहार को शक था कि उनके दामाद का किसी महिला के साथ अवैध संबंध है।

– पार्षद ने दामाद की जासूसी करने के लिए कई लोगों को पीछे लगा रखा था, जो उसकी गतिविधियों पर नजर रख रहे थे।

– गुरुवार सुबह दामाद के किसी के महिला के साथ रांदेर क्षेत्र में मिलने की जानकारी मिली।

– पार्षद ने साथियों के साथ दामाद का पीछा किया और रांदेर के एक फ्लैट तक पहुंच कर दोनों को पकड़ लिया।

– पूरे घटनाक्रम को लेकर भास्कर ने पार्षद प्रवीण कहार से उनका पक्ष जानना चाहा लेकिन मामला दर्ज होने के बाद से न उन्होंने फोन रिसीव किया न ही व्यक्तिगत तौर पर मिले।

LEAVE A REPLY