मशहूर अभिनेता रजनीकांत ने 7 साल के एक बालक यासीन की तारीफ़ की है. असल में इस लड़के को एक पर्स गिरा हुआ मिला था. उस पर्स में 50 हज़ार के करीब रक़म थी. इतनी बड़ी रक़म होने के बावजूद बच्चे ने ईमानदारी का रास्ता नहीं छोड़ा और पर्स को उसके असली मालिक तक पहुंचा दिया. रजनीकांत इस बात से बहुत प्रभावित हुए हैं. वो इस बात को सोच कर हैरान हैं कि इतना छोटा बच्चा और ये ईमानदारी का परिचय.

रजनीकांत को बच्चे की ईमानदारी से इतनी ख़ुशी मिली कि उन्होंने घोषणा कर दी कि वो इस सात साल के बच्चे की शिक्षा का सभी खर्च उठाएंगे. यासीन के बारे में बता दें कि वो कक्षा दो में पढता है और जब वो स्कूल जा रहा था तो इसे एक पर्स मिला. सड़क के किनारे पड़े इस पर्स को जब यासीन ने देखा तो इसमें ख़ूब पैसे थे.

ऐसे में यासीन ने पर्स उठाकर स्कूल के डायरेक्टर को दे दिया. स्कूल के डायरेक्टर ने पर्स पुलिस को दे दिया. रजनीकांत ने फिर इस बच्चे को अपने घर बुलाया.इस बच्चे की सभी प्रशंसा कर रहे हैं.रजनीकांत के कहा कि जहां आजकल देश में लोग ज़रा से पैसों के लिए धोखा दे देते हैं वहीं इस बच्चे ने ईमानदारी की मिसाल कायम की है.

उन्होंने कहा कि यही गुण है जिसे ईमानदारी कहते हैं वरना कोई भी इतने पैसों से बहक सकता है. उन्होंने कहा कि ये बच्चा उन सभी लोगों के लिए प्रेरणा है जो ईमानदारी का रास्ता छोड़ बेईमानी के रास्ते पर जा पहुंचे हैं. उन्हें चाहिए कि इस बालक से सीख लें. रजनीकांत ने इसीलिए इस बच्चे की शिक्षा का ज़िम्मा उठाने का फैसला किया है.

यहां क्लिक करें और पढ़ें

Loading...