बीते 20 अक्टूबर को बिहार के सीतामढ़ी में हुई दो समुदायों के बीच हुई हिंसक झड़प मामले में कार्रवाई करते हुए बिहार पुलिस ने अब तक 38 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। 20 अक्टूबर को दुर्गापूजा के मौके पर एक इलाके में जुलूस निकालने पर दो ग्रुप के बीच जमकर हिंसक झड़प हुई थी। इस हिंसा झड़प में एक शख्स की जान भी चली गई थी।

क्या है पूरा मामला
सीतामढ़ी में बीते 20 अक्टूबर को दुर्गा पूजा के मौके पर दो पक्षों में हिंसक झड़प हो गई। बताया जा रहा है कि एक इलाके में लोगों दुर्गा पूजा मना रहे थे और वहीं से दूसरे पक्ष के लोग जुलूज निकालने लगे। जिसको लेकर दोनों पक्षों में हिंसक झड़प हो गई। स्‍थानीय पुलिस के मुताबिक, जुलूस को इस इलाके से न निकालने की पहले ही चेतावनी जारी कर दी गई थी। लेकिन फिर भी इलाके से जुलूस निकाला गया। नतीजतन दो समुदायों के बीच हिंसा भड़क उठी।

सीएम नीतीश को झटका, JDU के वरिष्ठ नेता और पूर्व विधानसभा स्पीकर उदय नारायण चौधरी ने पार्टी से इस्तीफा दिया

वहीं इस मामले में एसपी विकास वर्मन ने बताया था- “कि इस हिंसक झड़प में एक व्यक्ति का शव बरामद किया गया है।” बाद में मृतक व्यक्ति की पहचान जैनुल अंसारी नाम से हुई जिसकी उम्र करीब 80 साल थी। बताया जा रहा है कि जैनुल अंसारी अपनी बेटी के घर से लौट रहे थे। तभी वह दोनों पक्षों की हिंसा के शिकार हुए और भीड़ ने उनको जमकर पीटा। इसके बाद फिर उन्हें जिंदा जला दिया गया।

पुलिस ने गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज करने के दो दिन बाद जैनुल अंसारी की जली हुई बॉडी की पहचान की थी। घटना के बाद सोशल मीडिया पर अफवाहों के चलते इंटरनेट संस्पेंड कर दिया गया था।

यहां क्लिक करें और पढ़ें

Loading...