लखनऊ। यूपी विधानसभा चुनावों में डेब्यू करने वाली एआईएमआईएम ने रविवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस करके बसपा के साथ गठबंधन नाकाम होने के पीछे मायावती को जिम्मेदार ठहराया। एआईएम के जनरल सेक्रेटरी सैयद जुबैर अहमद रिजवी ने प्रेस कॉन्फ्रेस में बताया की हमारी पूरी कोशिश थी कि हम बसपा के साथ गठबंधन करे लेकिन मायावती के पार्टी में ऐसा कोई नहीं जो उन्हें इस गठबंधन के लिए उन्हें तैयार कर सके। हालांकि उन्होंने अभी भी गठबंधन की संभावनाओं से इंकार नहीं किया है।

सैयद जुबैर अहमद रिजवी ने कहा ,” बाबा साहब अंबेडकर के लिए हमारे दिल में बहुत सम्मान है। हम मायावती को इस देश के प्रधानमंत्री के तौर पर देखना चाहते हैं।” उन्होंने कहा बसपा और आरएलडी के साथ गठबंधन की बात चल रही है, दोनों पार्टियों के प्रमुखों के पास प्रस्ताव भी भेजा जा चुका है, लेकिन बीएसपी की तरफ से अबतक कोई रेस्पॉन्स नहीं मिला है। पिछले कुछ अरसे से यूपी में इस बात की सूगबुगाहट थी दलित और मुस्लिम वोट को एकजुट करने के लिए बसपा और एआईएम साथ मिलकर चुनाव लडेंगे।

एआईएमआईएम ने इस प्रेंस कॉन्फ्रेस में लखऩऊ की दो सीटों के अलावा 36 सीटों पर प्रत्याशी की लिस्ट जारी की।

LEAVE A REPLY