दुबई: सउदी अरब की गलत फहमी पर बोलते हुए सूडान के राष्ट्रपति उमर अलबशीर ने कहा है कि हम अपने सरज़मीन पर सऊदी अरब के खिलाफ़ किसी तरह की सरगर्मी की इजाजत नहीं देंगे.

अल अरबिया समाचार चैनल को दिए गए एक इंटरव्यू में उन्होंने बताया कि राजधानी खर्तूम में ईरानी सांस्कृतिक केंद्र के माध्यम से शिया फिरकापरस्त फ़ैलाने की गतिविधियों का खुलासा हुआ, और देश में सुन्नी-शिया विवाद पैदा न होने देने के लिये अधिकारी उक्त सांस्कृतिक केंद्र को बंद कर देने पर मजबूर हुए.

सूडान के राष्ट्रपति के अनुसार सद्दाम हुसैन की सरकार की बरबादी के बाद अमेरिकियों ने इराक में एक शिया राज्य की स्थापना की, जिस कारण ईरान चार अरब देशों की राजधानियों दमिश्क, बेरूत, बगदाद और सना पर नियंत्रण पाने में सफल हुआ. अलबशीर का कहना है कि ईरान के और भी “अन्य उद्देश्य” हैं.

उन्होंने सऊदी शाह सलमान (जब वह युवराज थे) के साथ बैठक में इस बात से आगाह कर दिया था कि “हम सूडान में महसूस करते हैं कि यमन की स्थिति हमारे लिए खतरा है”.जब सैन्य ऑपरेशन “प्रतिबद्धता की आंधी” शुरू हुई तो सूडान ने प्रत्यक्ष तरीके से कई युद्धक विमानों के साथ उसमें भाग लिया जबकि सूडानी सैनिक भी इस समय यमन के शहर “ईडन” की धरती पर मौजूद हैं.

LEAVE A REPLY