“आई एम् ड्राइविंग, आई विल कॉल यू लेटर अर्थात मै गाड़ी चला रहा हूँ मै आपको बाद में कॉल करता हूँ”, इस मेसेज को सऊदी अरब में हर एक मोटरयात्री तक पहुँचाना होगा, क्योंकि अब अगर सऊदी अरब में कोई यातायात के नियमों का उल्लंघन करता हुआ पकड़ा गया तो उसे जुर्माना देना होगा.

सोमवार से सऊदी जनरल डिपार्टमेंट ऑफ़ ट्रैफिक ने तीन बड़े शहरों में उन यात्रियों पर जुर्माना लगाना शुरू कर दिया है, जो गाड़ी चलाते समय सेल फ़ोन का उपयोग करते हैं. इससे पहले जीडीटी ने घोषणा की थी की “स्वचालित ट्रैफिक-मॉनिटरिंग सिस्टम (सहर) कई उल्लंघनकर्ताओं को पकड़ने में मदद करेगा, यह प्रणाली रियाद, जेद्दा और दम्माम से शुरू की गयी, वाहन मालिकों के खिलाफ उल्लंघनकर्ताओं के रूप में शिकायत दर्ज की जायेगी, इससे उल्लंघनकर्ता के फ़ोन पर एक मेसेज जाएगा, फिर जीडीटी उस उल्लंघन कर्ता को कॉल करके उसे जुर्माने के लिए कहेगी.

नए उल्लंघनों में बच्चों को फ्रंट सीट पर बैठाना और हॉर्न का बिना वजह इस्तेमाल करना शामिल है, अगर कोई भी मोटरयात्री इस तरह का कोई उल्लंघन करता है तो उसे SR150 से SR300 ($40 to $80)देना पड़ेगा.

पिछले सात दिनों में जीडीटी ने अपने ट्विटर अकाउंट पर घोषणा की है “जो यात्री सीट बेल्ट नहीं पहनेगा और फ्रंट सीट पर बैठा होगा उसे भी दण्डित किया जाएगा, ऑडियोज़ीज़ुअल सामग्री से पता चलता है कि सीट बेल्ट का उपयोग 50 प्रतिशत तक दुर्घटना में मृत्यु और गंभीर चोटों को कम कर सकता है हालाँकि ऑडियोज़ीज़ुअल सामग्री यह भी दिखाती है की 60 % दुर्घटनाएं मोबाइल फ़ोन का इस्तेमाल करने से होती हैं.”

जीडीटी ने यह भी कहा की उल्लंघनो के बारे में जानकारी लेने के लिए आप अपने पास के ट्रैफिक डिपार्टमेंट में जाकर पूछ सकते हैं.

एक सामाजिक मीडिया कार्यकर्ता हिशाम अल-हुवाइश ने कहा कि नियमों को हमारी सुरक्षा के लिए बनाया गया है और हमें याद रखना होगा कि यातायात नियम हमेशा खतरे से हमारी रक्षा के लिए हैं, “लोगों को ड्राइविंग करते समय सेलफोन का उपयोग करने की लत है, लेकिन यह बुरी आदत कुछ दिनों के भीतर गायब हो जाएगी.”

अल-हुवाइश ने बताया कि “वह, एक सेलिब्रिटी के रूप में, वह हमेशा ट्विटर और स्नैपचैट फोल्लोवेर्स को को जागरूकता संदेश भेजता है, उन्हें सड़क पर सुरक्षा के बारे में याद दिलाता है और उन्हें किसी भी प्रकार के उल्लंघन को ना करने के लिए कहता है.”

अरब न्यूज के अनुसार 2016 में कार दुर्घटनाओं में 9031 लोग मारे गए, उस दौरान देश में 70,000 लोगों की मृत्यु का 12 प्रतिशत था, एक दिन में 25 से अधिक मौतें हुई और एक घंटे में एक मौत हुई, वर्ष 2007 के बाद से वृद्धि की दर सबसे ज्यादा है. 2006 और 2016 के बीच, कार दुर्घटनाओं में 78,487 लोग मारे गए.

LEAVE A REPLY