मशहूर हस्तियों और बड़े-बडे पत्रकारों को ट्रोल किए जाने के मामले तो अक्सर देखने को मिलते हैं। लेकिन किसी नामी पत्रकार द्वारा आम नागरिक को ट्रोल किए जाने का मामला शायद ही किसी ने देखा और सुना हो।

कुछ ऐसा ही मामला तब सामने आया जब देश के जाने माने पत्रकार ब्रजेश मिश्रा ने एक मुस्लिम महिला के ट्वीट के जवाब में उसे पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई का एजेंट करार दे दिया।

दरअसल लुबना रिफत नाम की महिला ने अपने ट्विटर हैंडल से मौजूदा दौर की पत्रकारिता पर तंज़ कसते हुए एक पोस्ट किया था। जिसमें उन्होंने लिखा था, “मौजूदा दौर के पत्रकारों को क्या हो गया है, पहले न्यूज़ बनाते हैं और फिर उसे रिपोर्ट करते हैं। इनकी इमानदारी की तारीफ करती हूं”।

लुबना के ट्वीट पर पलटवार करते हुए ब्रजेश मिश्रा ने कहा कि उन्हें किसी आईएसआई एजेंट से पत्रकारिता का सर्टिफिकेट लेने की ज़रूरत नहीं है। वरिष्ठ पत्रकार की इस आपप्तिजनक टिप्पणी के बाद से सोशल मीडिया पर उनकी जमकर आलोचना हो रही है।

ब्रिजेश मिश्रा की इस टिप्पणी को धर्म से जोड़कर देखा जा रहा है। अमित कुमार ने ट्वीट कर लिखा, “मिश्रा जी आपको बीजेपी-आईटी सेल से सर्टिफिकेट लेने की ज़रूरत है, जो कि आईएसआई एजेंट्स की भर्ती करता है”।

वहीं सोशल मीडिया एक्टिविस्ट मोहम्मद अनस ने इसपर प्रतिक्रिया देते हुए ट्वीट किया, “लुबना मुसलमान हैं तो आईएसआई एजेंट हो गईं। दलाली के पैसों से लखनऊ में होर्डिंग लगवाने से कोई पत्रकार नहीं हो जाता”।

LEAVE A REPLY