7वें राष्ट्रीय मतदाता दिवस पर भारतीय लोकतंत्र को मजबूती प्रदान करने के लिए बुधवार को जयपुर के ऑफिसर्स ट्रेनिंग सेंटर सभागार में राज्य स्तरीय समारोह का आयोजन किया गया।

समारोह को संबोधित करते हुए राज्य निवार्चन आयुक्त रामलुभाया ने कहा कि देश को कैशलेस से अधिक जरूरत कास्टलेस की है। जाति आधारित समाज लोकतांत्रिक व्यवस्था पर खासकर निष्पक्ष मतदान पर असर डाल रहा है। मतदाता अधिकतर योग्यता की बजाय जाति के उम्मीदवार को प्राथमिकता देते हैं।

मुख्य निर्वाचन अधिकारी अश्विनी भगत ने कहा कि राजस्थान के मतदाताओं की सुविधा के लिए विभाग ने चार हजार 600 मतदाता बूथ पिछले दिनों बढ़ाए हैं। राज्य में इनकी संख्या अब 49 हजार 954 हो गई है। साथ ही करीब 99 प्रतिशत मतदाताओं को फोटो पहचान पत्र जारी कर दिए गए हैं। राज्यस्तरीय समारोह में मतदान प्रोत्साहन के लिए बेहतरीन कार्य करने पर अजमेर, श्रीगंगानगर, कोटा जिला कलेक्टर्स सहित विभिन्न जिला निर्वाचन अधिकारियों एवं छात्रों को प्रोत्साहित किया गया।

राज्य निर्वाचन आयुक्त रामलुभा ने समारोह में मौजूद लोगों को निष्पक्ष मतदान की शपथ दिलवाई। इस अवसर पर बालिकाओं ने नुक्कड़ नाटक के जरिए मतदान कर लोकतंत्र मजबूत करने का संदेश दिया।

इस अवसर पर जयपुर के ऑफिसर्स ट्रेनिंग सेंटर सभागार में राज्य निर्वाचन आयुक्त रामलुभाया के अलावा संभागीय आयुक्त राजेश्वर सिंह, एचसीएम रीपा की महानिदेशक गुरजोत कौर, मुख्य निर्वाचन अधिकारी अश्विनी भगत, जिला कलेक्टर सिद्वार्थ महाजन सहित मतदान प्रक्रिया में अहम योगदान देने वाले विभागीय अधिकारी, नवमतदाता और स्कूल छात्र मौजूद रहे। कार्यक्रम में मतदान प्रोत्साहन के लिए बेहतर कार्य करने का पुरस्कार अजमेर कलेक्टर गौरव गोयल को दिया गया।

LEAVE A REPLY