नई दिल्ली: मध्यप्रदेश एटीएस ने 11 लोगों को पाकिस्तानी जासूसी एजेंसी आईएसआई को सेना की ख़ुफ़िया सूचना देने के आरोप में गिरफ्तार किया है. एमपी एटीएस चीफ संजीव शमी ने बताया कि भोपाल, ग्वालियर, जबलपुर और सतना जिलों से 11 लोगों को गिरफ्तार किया है. जो जम्मू कश्मीर के आरएसपुरा सेक्टर से सेना की जानकारी एकत्र कर पाकिस्तानी हेण्डलरों को देते थे. जिसके लिए यह लोग दूरसंचार उपकरणों का उपयोग करते थे.

एक बीजेपी नेता भी शामिल!
इन ग्यारह लोगों में भोपाल से एक नेता को भी गिरफ्तार किया है. गिरफ्तार किए गए व्यक्ति का नाम ध्रुव सक्सेना है. ध्रुव पहले बीजेपी की भोपाल ज़िला इकाई में आईटी सेल से जुड़ा हुआ था।

दिग्विजय सिंह ने साधा निशाना
बीजेपी नेती की गिरफ्तारी के बाद कांग्रेस महासचिव दिग्विजय सिंह ने सवाल उठाए हैं. दिग्विय सिंह ने प्रधानमंत्री मोदी को भी निशाने पर लिया. दिग्विजय सिंह ने ट्वीट किया, ”भोपाल में पकड़े गये आईएसआई के एजेन्टों में एक भी मुसलमान नहीं उनमें से एक भाजपा का सदस्य। मोदी भक्तों कुछ सोचो.”

ऐसे करते थे ‘जासूसी’
इस काम के लिए उन्होंने एक एक्सचेंज भी तैयार किया था. एटीएस चीफ संजीव शमी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर इस जासूसी रैकेट के बारे में खुलासा किया. एटीएस चीफ ने बताया कि अब तक ग्वालियर से पांच, भोपाल से तीन, जबलपुर से दो और सतना से एक आरोपी की गिरफ्तारी की गई है.

मोबाइल कंपनियों के कर्मचारियों की मिलीभगत के संकेत
इस पूरे रैकेट में निजी मोबाइल कंपनियों के कर्मचारियों की मिलीभगत के संकेत भी मिले है. गुप्त सूचनाओं के साथ ही ये गिरोह हवाला, नौकरी और लॉटरी के नाम पर ठगी करने का काम भी करता था. अन्य एजेंसियों ने भी इस मामले में जांच शुरू कर दी है. गौरतलब है कि यूपी में भी ऐसे ही एक गिरोह का पर्दाफाश किया गया था.

LEAVE A REPLY