नई दिल्ली: गणतंत्र दिवस के मौके पर असम और मणिपुर आज सात बम धमाकों से दहल गए. वहीं देश के अलग-अलग हिस्सों में गणतंत्र दिवस पर राज्यों ने अपनी सांस्कृतिक विविधता और सुरक्षा बलों के सामथ्र्य का प्रदर्शन किया. पुलिस ने बताया कि उपरी असम में बातचीत का विरोध कर रहे उल्फा :स्वतंत्र: ने चराईडो, शिबसागर, डिब्रूगढ़ और तिनसुकिया जिलों में बम धमाके किए.

डिब्रूगढ़ शहर में चौकीडिंगी परेड ग्राउंड से महज 500 मीटर दूर धमाका हुआ. जिस वक्त धमाका हुआ उस वक्त परेड ग्राउंड में ध्वजारोहण समारोह चल रहा था. पुलिस ने कहा कि कड़ी सुरक्षा की वजह से आतंकियों ने चाय बगान के पास एक नाले में बम फेंक दिया, जिसमें धमाका हो गया. पुलिस ने कहा कि मणिपुर में इंफाल पूर्व और पश्चिम जिलों में संदिग्ध उग्रवादियों ने दो धमाके किए.

इंफाल पूर्व जिले में मंत्रीपुखरी में 69 सीआरपीएफ बटालियन के बैरेक के पास एक धमाका हुआ. धमाके में किसी के हताहत होने की खबर नहीं है. वहीं आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा दिये जाने की मांग को लेकर विशाखापट्टनम में प्रदर्शन कर रहे 100 से ज्यादा लोगों को पुलिस ने हिरासत में ले लिया. हिरासत में लिए गए लोगों में तेलगु अभिनेता संपूर्णेश बाबू भी शामिल हैं.

वहीं अलग अलग राज्यों की राजधानियों में राज्यपालों ने परंपरागत परेड की सलामी ली. राज्यों में मुख्यमंत्रियों ने तिरंगा फहराया और परेड की सलामी ली. इस दौरान आकषर्क वर्दी में सुरक्षा बलों ने कदमताल कर सभी का दिल जीत लिया. वहीं झांकियों ने भी लोगोंे को खूब आकषिर्त किया. धमाकों के बाद असम में मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल ने कहा कि सरकार उग्रवाद के खिलाफ लड़ाई जारी रखेगी और राज्य के लोग इसके खिलाफ एकजुट हैं.

LEAVE A REPLY