नईदिल्ली: आज के टेक्नोलॉजी के जमाने में सर्वाइकल होना आम बात हो गया है और इसका मुख्य कारण है कंप्यूटर्स, लैपटॉप, मोबाइल और अन्य गैजेट्स. आमतौर पर लोग सोचते हैं कि जो लोग डेस्क जॉब करते हैं उन्हें ही सर्वाइकल होता है लेकिन अब ये सिर्फ एक भ्रम मात्र है. बच्चों से लेकर बड़ों तक को सर्वाइकल की दिक्कतें होने लगी है. अगर ये कहें कि टेक्नोलॉजी सर्वाइकल प्रॉब्लम के लिए बहुत हद तक जिम्मेदार है तो गलत नहीं होगा. लेकिन क्या आप जानते हैं सर्वाइकल को आप आसानी से मात दे सकते हैं. जी हां, आज हम आपको कुछ ऐसे टिप्स बताएंगे जिसे अपनाकर आप सर्वाइकल से दूर रह सकते हैं.

गर्दन का पोश्चर रखें ठीक-

ये बहुत जरूरी है कि आपकी गर्दन का पोश्चर ठीक हो. स्कल आपकी बॉडी का सबसे हैवी पार्ट होता है. ऐसे में कंप्यूटर पर काम के दौरान, मोबाइल टैक्टिंग के दौरान या अन्य गैजेट इस्तेमाल करने के दौरान गर्दन का पोश्चर ठीक रखें. गर्दन पर लगातार प्रेशर से गर्दन की मसल्स थक जाती है जिससे की सर्वाइकल पेन होने लगता है.

लंबे समय तक सीट पर ना बैठें-

हर 20 मिनट बाद टहलें. कंप्यूटर पर काम करते हुए बीच-बीच में हाथों को पीछे की ओर स्ट्रेच करें और गर्दन को पीछे की ओर ले जाएं. इससे बॉडी को भी आराम मिलेगा.

योगा करें-

दिन में 2 बार मकरासन करें. इससे गर्दन में तनाव होगा और मसल्स रिलैक्स होंगी. साथ ही इससे मसल्स फ्लैक्सिबल होंगी. शुरूआत में इस आसन को 20 सेकेंड के लिए करें और इसे 2 मिनट तक ले जाएं.

भुजंगासनः ये आसन स्पाइन को स्ट्रेट करने में मदद करेगा. साथ ही लोअर स्पाइन की स्टिफनेस भी दूर होगी. अगर आपको सवाईकल प्रॉब्लम बहुत ज्यादा है तो पहले डॉक्टर से कंसल्ट करें.

गर्दन और शोल्डर की करें ये एक्सरसाइज-

रिस्ट रोटेशन- दोनों हाथों को सामने लाएं और होल्ड करें. फिर धीरे-धीरे हथेलियों को सर्कल में राइट और फिर लेफ्ट साइड से धुमाएं.एंजेल विंग्स- दीवार के सामने खड़े हो जाएं. हाथों को 90 डिग्री पर लाकर हथेलियों से शोल्डर पकड़ें और आगे की तरफ और पीछे की तरफ मूव करें.इंटरलॉक फिंगर- फिंगर्स को इंटरलॉक करके सिर के पीछे रखें और प्रेशर के साथ सिर को हाथों की तरफ पुश करें. रोजाना इसे करने से मसल्स को आराम मिलेगा.झुकें नहीं- झुककर ना बैठें. कमर सीधी रखें.
इन सब टिप्स से आप खुद को सर्वाइकल की प्रॉब्लम्स से बचा सकते हैं.

LEAVE A REPLY