भारतीय राजनीति में अपनी छाप छोड़ चुके एईएमएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी जिन्हें अक्सर आप लोगों ने देश के मुसलमानों के हक के लिए लड़ते हुए देखा होगा और शायद इसलिए असदुद्दीन ओवैसी को मुसलमानों के नेता के तौर पर पहचाना जाता है. 

पाकिस्तान के एक न्यूज़ चैनेल जियो टीवी न्यूज पर “अमन की आशा” कार्यक्रम असदुद्दीन ओवैसी ने हिस्सा लिया, जब जियो टीवी के लोकप्रिय एंकर हामिद मीर ने पाकिस्तानी राजनेताओं और भारतीय राजनेताओं के एक पैनल के बीच ‘जिहाद’ सहित विभिन्न विषयों पर बहस शुरू की।

भारतीय पक्ष का प्रतिनिधित्व कांग्रेस के वरिष्ठ नेता मणिशंकर अय्यर और बीजेपी सांसद के साथ-साथ पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी कीर्ति आजाद और एईएमएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी ने किया था।पाकिस्तान के तरफ से डॉ फरीद अहमद पराचा,पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ (पीटीआई) के शाह मेहमूद कुरेशी,पाकिस्तान मुस्लिम लीग-एन (पीएमएल-एन) के खुर्रम दस्तगीर खान,पाकिस्तान पीपुल्स पार्टी (पीपीपी) के सैयद नवीन कमर ने किया था।

डॉ फरीद से ओवैसी ने बांग्लादेश में जमात-ए-इस्लामी कार्यकर्ताओं की गिरफ्तारी पर भारत और पाकिस्तान को दोष नहीं देना चाहिए। आप भारतीय मुसलमानों के बारे में चिंता करना बंद कर दे क्योंकि उन्होंने 60 साल पहले फैसला किया था कि भारत उनका राष्ट्र है”। जिहाद जैसे मुद्दे पर भी ओवैसी ने बेबाक़ी से राय रखी क्या यह जिहाद शिया मुस्लिमों को मारने के लिए है? जिहाद नफ्स (स्वयं) के खिलाफ होना चाहिए।

देखिये एईएमएम चीफ असदुद्दीन ओवैसी का ये वीडियो

यहां क्लिक करें और पढ़ें

Loading...