मोहम्मद सिराज के दिमाग में सबसे पहली चीज अपने पिता मोहम्मद गौस और मां शबाना बेगम के लिये हैदराबाद के अच्छे इलाके में एक घर खरीदना है। और क्यों नहीं? इस तेज गेंदबाज ने शानदार प्रथम श्रेणी सत्र के बूते सनराइजर्स हैदराबाद के साथ 2.6 करोड़ रुपए का करार किया है। इसी प्रदर्शन के कारण उसे भारत ए और शेष भारत के लिये भी टीम में शामिल किया गया। सिराज ने हैदराबाद से कहा, ‘आज, मुझे याद है क्रिकेट खेलते हुए मैंने जो पहली कमाई की थी। यह क्लब का मैच था और मेरे मामा टीम के कप्तान थे। मैंने 25 ओवर के मैच में 20 रन देकर नौ विकेट झटकाये। मेरे मामा इतने खुश हुए कि उन्होंने मुझे ईनाम के रूप में 500 रुपए दिये। यह अच्छा अहसास था। लेकिन आज जब बोली 2.6 करोड़ रुपए तक पहुंच गयी तो मैं सन्न रह गया।’

उन्होंने कहा, ‘मेरे वालिद साब (पिता) ने बहुत मेहनत की है। वह ऑटो चलाते थे लेकिन उन्होंने कभी भी परिवार की आर्थिक स्थिति का मेरे और मेरे बड़े भाई पर असर नहीं पड़ने दिया। गेंदबाजी की एक स्पाइक की कीमत बहुत होती है और वह मेरे लिये सबसे अच्छी स्पाइक लाते। मैं अच्छे से इलाके में उनके लिये एक घर खरीदना चाहता हूं।’

पूनम पांडे का वो वाला वीडियो हो गया वायरल, बच्चों के सामने ना देखें आप

बेन स्टोक्स भले ही सोमवार (20 फरवरी) की आईपीएल नीलामी में सबसे अधिक कीमत पर बिके हों लेकिन भारत के कुछ उदीयमान खिलाड़ियों ने भी मोटी रकम हासिल की जबकि इशांत शर्मा, चेतेश्वर पुजारा और इरफान पठान जैसे कई मंझे हुए क्रिकेटरों को कोई खरीदार नहीं मिला। आखिर फ्रेंचाइजी मालिकों ने किस तरह से खिलाड़ियों का चयन किया। अगर इस पर गौर करें तो आजमाये गये खिलाड़ियों को लेकर उनकी धारणा ने दोनों तरह से काम किया और इसमें किसी खिलाड़ी को फायदा मिला तो कुछ को नुकसान हुआ।

इशांत शर्मा ने अपनी मूल कीमत दो करोड़ रुपए रखी और उन्हें इसका नुकसान उठाना पड़ा। दोनों दौर में उन्हें कोई खरीदार नहीं मिला। दिग्गज खिलाड़ियों में चेतेश्वर पुजारा ने अपना आधार मूल्य केवल 50 लाख रुपए रखा था लेकिन उन पर ‘टेस्ट विशेषज्ञ’ का ठप्पा लगा हुआ है जो उनके खिलाफ गया। इरफान पठान को एक अलग तरह की वास्तविकता के कारण बाहर ही रहना पड़ा। पठान जूनियर को लेकर एक व्यंग्य चल रहा है कि वह ‘जनवरी से जून’ तक के क्रिकेटर हैं जो कि आईपीएल नीलामी से पहले ही अच्छा प्रदर्शन करते हैं।

वीडियो वाइरल: विश्व के सबसे झूठे प्रधान मंत्री बने मोदी !

LEAVE A REPLY