इंडोनेशिया के लायन एयरलाइंस का प्लेन उड़ान भरने के कुछ ही समय बाद क्रैश होकर समुद्र में जा गिरा|यह हादसा राजधानी जकार्ता से सुबह उड़ान भरने के दौरान हुआ| एक अफसर ने कहा-विमान क्रैश होने की खबर के बाद खोजबीन और बचाव कार्य शुरू हुआ है, विमान के क्रैश होने की पुष्टि हो गई है| एयरलाइंस के प्रवक्ता युसुफ लतीफ ने कहा-यह अभी पता नहीं चल पाया है कि कितने लोग प्लेन में थे| इस विमान में कुल 189 यात्री सवार बताए जाते हैं| इंडोनेशिया की आपदा एजेंसी के प्रवक्ता सुतोपो पूर्वो नुग्रोहो ने हादसे का शिकार हुए विमान की कुछ तस्वीरें ट्विटर पर डालीं, जिनमें बुरी तरह टूट चुका एक स्मार्टफोन, किताबें, बैग, विमान के कुछ हिस्से दिख रहे हैं. दुर्घटना की जगह तक पहुंचे खोजी एवं बचाव पोतों ने यह सामान इकट्ठा किए हैं|

जानकारी के अनुसार विमान ने सुबह 6.33 बजे जकार्ता से पैंगकाल पिनांग के लिए उड़ान भरी थी। उड़ान भरने के कुछ ही पलों बाद विमान का एयर ट्रैफिक कंट्रोल सेंटर से संपर्क टूट गया। इंडोनेशिया एयर ट्रैफिक कंट्रोल विभाग के अनुसार हादसे के शिकार हुए विमान में क्रू मेंबर्स समेत 188 यात्री सवार थे।

अब तक का सबसे बड़ा हादसा

यह क्रैश इंडोनेशिया का सबसे बड़ा विमान हादसा है। इससे पहले दिसंबर 2014 में एयर एशिया फ्लाइट क्यूजेड8501 क्रैश में 162 लोगों की मौत हो गई थी। हादसे का शिकार हुआ विमान बोइंग 737 मैक्स-8 था। इसमें एक बार में 210 यात्री सफर कर सकते हैं। हादसे की वजह अभी साफ नहीं है, लेकिन यह बोइंग 737 मैक्स-8 की पहली दुर्घटना बताई जा रही है।

दिल्ली के रहने वाले पायलट

प्लेन के दो पायलटों में से एक कैप्टन भव्य सुनेजा थे| भव्य सुनेजा मूल रूप से दिल्ली के रहते थे। उन्हें 2009 में बेल एयर इंटरनेशनल से अपना पायलट लाइसेंस मिला था। वह मार्च 2011 में लॉयन एयर से जुड़े थे। इससे पहले वे अमीरात एयरलाइन में बतौर ट्रेनी पायलट 3 महीने काम कर चुके थे। सुनेजा के पास विमान उड़ाने का 6000 घंटे का अनुभव था। वे अपनी पत्नी के साथ जकार्ता में ही रह रहे थे, जबकि उनका बाकी परिवार दिल्ली में ही रहते हैं। लॉयन एयरलाइन में उनके को-पायलट हार्विनो के पास 5 हजार घंटे विमान उड़ाने का अनुभव था।

यहां क्लिक करें और पढ़ें

Loading...