लखनऊ: ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी ने तीन तलाक के मुद्दे पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित यूपी के मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और कांग्रेस पर निशाना साधा है. तीन तलाक के एक सवाल पर ओवैसी ने जवाब देते हुए कहा है कि वह भी तीन तलाक बोल चुके हैं.

यूपी चुनाव: दलित-मुस्लिम फॉर्मूले पर मायावती, मुसलमानों से की वोट देने की अपील

दरअसल केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद के ‘यूपी चुनाव के बाद तीन तलाक पर प्रतिबंध’ वाले बयान पर ओवैसी से उनकी राय मांगी गई थी. इस पर उन्होंने कहा, ‘’बोल दिए न हम तीन तलाक. एक तलाक मोदी को, एक अखिलेश को और एक कांग्रेस को.’’’

क्या कहा था रविशंकर प्रसाद ने

रविशंकर प्रसाद ने इस बात का संकेत दिया कि विधानसभा चुनावों की मौजूदा प्रकिया खत्म होने के बाद केन्द्र सरकार संभवत: तीन तलाक प्रतिबंधित करने के संबंध में महत्वपूर्ण कदम उठा सकती है.

इसके अलावा रविशंकर ने कहा-

– सपा, कांग्रेस और बसपा को इस विवादित मुद्दे पर अपना रूख स्पष्ट करे

–महिलाओं से उनका सम्मान छीन लेती है तीन तलाक की कुप्रथा

-हम आस्था का सम्मान करते हैं. लेकिन उपासना पद्घति और कुप्रथा साथ साथ नहीं चल सकते.

-एक साथ तीन बार तलाक बोलने की यह कुप्रथा महिलाओं से उनका सम्मान छीन लेती है.

– केन्द्र इस ‘कुप्रथा को समाप्त करने को प्रतिबद्ध है

तीन तलाक का मुद्दा लाने की वजह ?

-तीन तलाक के मुद्दे पर पिछले कई महीनों से विवाद चल रहा है.

-यूपी चुनाव में यह मुद्दा चुनाव में असर डाल सकता है.

– यूपी की 403 विधानसभा सीटों में से 143 सीटें ऐसी हैं जहां मुस्लिम वोटर ज्यादा हैं.

-2012 में मुस्लिम बहुल 143 सीटों में से समाजवादी पार्टी को 72, बीएसपी को 26, बीजेपी को 26 और कांग्रेस-आरएलडी गठबंधन को 14 सीटें मिली थीं.

-अखिलेश यादव की समाजवादी पार्टी यादव मुस्लिम वोटों को सत्ता की चाभी मानती है.

-मुस्लिम वोटों का एक हिस्सा कांग्रेस को भी मिलता रहा है.

-मायावती दलित-मुस्लिम वोटों के बल पर दोबारा यूपी की गद्दी पाना चाहती हैं.

LEAVE A REPLY